शाद आरफ़ी की रचनाएँ

शाद आरफ़ी की रचनाएँ

अहद-ए-मायूसी जहाँ तक साज़गार आता गया अहद-ए-मायूसी जहाँ तक साज़गार आता गया अपने-आप में दिल-ए-बे-इख़्तियार आता गया कुछ सुकूँ कुछ…

2 months ago