श्रीपति

श्रीपति की रचनाएँ

बैठी अटा पर, औध बिसूरत बैठी अटा पर, औध बिसूरत पाये सँदेस न 'श्रीपति पी के। देखत छाती फटै निपटै,…

3 months ago