हंसराज 'रहबर' की रचनाएँ

हंसराज ‘रहबर’ की रचनाएँ

तबीयत में न जाने ख़ाम बढ़ाता है तमन्‍ना आदमी आहिस्‍ता आहिस्‍ता गुज़र जाती है सारी ज़िंदगी आहिस्‍ता आहिस्‍ता अज़ल से…

3 months ago