अखिलेश्वर पांडेय

अखिलेश्वर पांडेय की रचनाएँ

एक दिन  मैं तुम्हारे शब्दों की उंगली पकड़ कर चला जा रहा था बच्चे की तरह इधर-उधर देखता हंसता, खिलखिलाता…

3 months ago