अनुभूति गुप्ता

अनुभूति गुप्ता की रचनाएँ

कतरा भर धूप मेरे हिस्से की कतरा भर धूप वो भी मित्र छीन ले गया आत्मीय सहयात्री हितैषी मेरा था…

3 months ago