अफ़ज़ल मिनहास

अफ़ज़ल मिनहास की रचनाएँ

गिर पड़ा तू आख़िरी ज़ीने का छू कर किस लिए गिर पड़ा तू आख़िरी ज़ीने का छू कर किस लिए…

3 months ago