अबरार अहमद

अबरार अहमद की रचनाएँ

गुरेज़ाँ था मगर ऐसा नहीं था गुरेज़ाँ था मगर ऐसा नहीं था ये मेरा हम-सफ़र ऐसा नहीं था यहाँ मेहमाँ…

3 months ago