अभिषेक शुक्ला

अभिषेक शुक्ला की रचनाएँ

अब इख़्तियार में मौजें न ये रवानी है अब इख़्तियार में मौजें न ये रवानी है मैं बह रहा हूँ…

2 months ago