अहसन यूसुफ़ ज़ई

अहसन यूसुफ़ ज़ई की रचनाएँ

घर घर आपस में दुश्मनी भी है घर घर आपस में दुश्मनी भी है बस खचा-खच भी हुई भी है…

2 months ago