गंगासहाय ‘प्रेमी’

गंगासहाय ‘प्रेमी’ की रचनाएँ

दस्ताने टिल्लू जी के हाथ पड़ गए मम्मी के दस्ताने, कुछ भी नहीं समझ में आया घंटों खींचे-ताने। पैरों में…

2 months ago