चन्द्र

चन्द्र की रचनाएँ

मज़दूरों के लिए एक श्रम के आँच में जल-जलकर बहे हुए लहू-पसीने के कतरे-कतरे को चूमा जाएगा चूमा जाएगा उन…

2 months ago