ज़ौक़

ज़ौक़ की रचनाएँ

इस तपिश का है मज़ा दिल ही को हासिल होता इस तपिश[1] का है मज़ा दिल ही को हासिल होता काश,…

4 weeks ago