जाँ निसार अख़्तर

जाँ निसार अख़्तर की रचनाएँ

उफ़ुक़ अगरचे पिघलता दिखाई पड़ता है उफ़ुक़ अगरचे पिघलता दिखाई पड़ता है मुझे तो दूर सवेरा दिखाई पड़ता है हमारे…

4 weeks ago