भारती पंडित

भारती पंडित की रचनाएँ

माँ तुम जो चल पडी अनंत यात्रा के पथ पर सुगंध विहीन हो गए गुलाब सारे विलीन हो गई पाजेब…

2 weeks ago