मंजूर ‘हाशमी’

मंजूर ‘हाशमी’ की रचनाएँ

बदन को ज़ख़्म करें ख़ाक को लबादा करें ‎ बदन को ज़ख़्म करें ख़ाक को लबादा करें जुनूँ की भूली…

2 weeks ago