मनोहर ‘साग़र’ पालमपुरी

मनोहर ‘साग़र’ पालमपुरी की रचनाएँ

फूल क्यों मुरझा रहा है आ गया मधुमास लेकिन फूल क्यों मुरझा रहा है शम्अ तो जलती है उसपर आज…

1 week ago