याक़ूब आमिर

याक़ूब आमिर की रचनाएँ

आतिश-ए-ग़म में भभूका दीदा-ए-नमनाक था आतिश-ए-ग़म में भभूका दीदा-ए-नमनाक था आँसुओं में जो ज़बाँ पर हर्फ़ था बेबाक था चैन…

1 month ago