रईसुदीन रईस

रईसुदीन रईस की रचनाएँ

हवा नमनाक होती जा रही है हवा नमनाक होती जा रही है हवेली ख़ाक होती जा रही है दरीचा खोलते…

4 weeks ago