रज़्म रदौलवी

रज़्म रदौलवी की रचनाएँ

फ़िक्रे-अज़ादी को ता-अहसास इमकाँ कीजिए  फ़िक्रे-आज़ादी को ता-अहसास इमकाँ कीजिए। दिल से दिल तक बर्क़े-खुद्दारी को जौलाँ कीजिए॥ दामने-गुल में…

4 weeks ago