राजेश जोशी

राजेश जोशी की रचनाएँ

चप्पल चल चप्पल अपन भी चलें बाहर बाहर जहाँ कोहरा तोड़कर निकली हैं सड़कें अपनी पीली कँचियाँ फेंककर मैदान में…

3 weeks ago