रामेश्वर खंडेलवाल ‘तरुण’

रामेश्वर खंडेलवाल ‘तरुण’ की रचनाएँ

कसकर जिया जेठ की जली-सूखी दराड़-खाइर्द्य पपड़ीली धरती अपनी आँतों में जैसे वर्षा का पानी, अबाध रूप से है जज्ब…

3 weeks ago