रोहित ठाकुर

रोहित ठाकुर की रचनाएँ

गोली चलाने से पलाश के फूल नहीं खिलते गोली चलाने से पलाश के फूल नहीं खिलते बस सन्नाटा टूटता है…

2 months ago