लालचन्द राही

लालचन्द राही की रचनाएँ

मोची की व्यथा  फटे जूते सी ज़िन्दगी सीने के लिए चमड़ा काटता है वह किसी की जेब या गला नहीं…

1 month ago