वली दक्कनी

वली दक्कनी की रचनाएँ

याद करना हर घडी़ उस यार का याद करना हर घड़ी उस यार का है वज़ीफ़ा मुझ दिल-ए-बीमार का आरज़ू-ए-चश्मा-ए-कौसर…

2 months ago