‘वहशत’ रज़ा अली कलकत्वी

‘वहशत’ रज़ा अली कलकत्वी

आँख में जलवा तिरा दिल में तिरी याद रहे  आँख में जलवा तिरा दिल में तिरी याद रहे ये मयस्सर…

2 months ago