शाकिर ‘नाजी’

शाकिर ‘नाजी’ की रचनाएँ

देख मोहन तेरी कमर की तरफ देख मोहन तेरी कमर की तरफ फिर गया मानी अपने घर की तरफ जिन…

2 months ago