शाहिद कबीर

शाहिद कबीर की रचनाएँ

आज हम बिछड़े हैं तो कितने रंगीले हो गए आज हम बिछड़े हैं तो कितने रंगीले हो गए मेरी आंखें…

2 months ago