शीन काफ़ निज़ाम

शीन काफ़ निज़ाम की रचनाएँ

वो कहाँ चश्मे-तर में रहते हैं वो कहाँ चश्मे-तर में रहते हैं ख़्वाब ख़ुशबू के घर में रहते हैं शहर…

2 months ago