अहसान बिन ‘दानिश’

अहसान बिन ‘दानिश’ की रचनाएँ

कुत्ता और मज़दूर  कुत्ता इक कोठी के दरवाज़े पे भूँका यक़बयक़ रूई की गद्दी थी जिसकी पुश्त से गरदन तलक…

2 months ago