ख़ुमार बाराबंकवी

ख़ुमार बाराबंकवी की रचनाएँ

दुनिया के ज़ोर प्यार के दिन  दुनिया के ज़ोर प्यार के दिन याद आ गये दो बाज़ुओ की हार के…

2 months ago