ख़्वाजा मीर दर्द

ख़्वाजा मीर दर्द की रचनाएँ

तुहमतें चन्द अपने ज़िम्मे धर चले तुहमतें चन्द अपने ज़िम्मे धर चले किसलिए आये थे हम क्या कर चले ज़िंदगी…

2 months ago