ज़ुबैर फ़ारूक़

ज़ुबैर फ़ारूक़ की रचनाएँ

आँखों में है बसा हुआ तूफ़ान देखना आँखों में है बसा हुआ तूफ़ान देखना निकले हैं दिल से यूँ मिरे…

4 weeks ago