तेजी ग्रोवर

तेजी ग्रोवर की रचनाएँ

क्या मालूम है तुम्हें क्या मालूम है तुम्हें पर्दे के पीछे बेतरह रूठ गई है वह उसकी मात्राएँ झाँकती हैं…

4 months ago