रसिकबिहारी

रसिकबिहारी की रचनाएँ

गहगह साज समाज-जुत, अति सोभा उफनात गहगह साज समाज-जुत, अति सोभा उफनात। चलिबे को मिलि सेज-सुख, मंगल-मुदमय-रात॥ रही पालती पहकि…

2 months ago