विशाल समर्पित

विशाल समर्पित की रचनाएँ

तुम जैसा मनमीत नहीं है कसम खुदा की खाकर कहता तुम जैसा मनमीत नहीं है जितनी सुन्दर तुम हो उतना, सुन्दर मेरा गीत नहीं है… Read More »विशाल समर्पित की रचनाएँ