शिवराम

शिवराम की रचनाएँ

चाह  वह तट खोज रहा है मैं समन्दर वह दो गज ज़मीन मैं दो पंख नवीन उसे शांति की चाह…

2 months ago