अरशद अली ख़ान ‘क़लक़’

अरशद अली ख़ान ‘क़लक़’ की रचनाएँ

आसार-ए-रिहाई हैं ये दिल बोल रहा है  आसार-ए-रिहाई हैं ये दिल बोल रहा है सय्याद सितम-गर मेरे पर खोल रहा…

3 months ago