‘अनवर’ साबरी

‘अनवर’ साबरी की रचनाएँ

हर साँस में ख़ुद अपने न होने  हर साँस में ख़ुद अपने न होने का गुमाँ था वो सामने आए…

3 months ago