अब्दुल हमीद

अब्दुल हमीद की रचनाएँ

अजीब शय है के सूरत बदलती जाती है अजीब शय है के सूरत बदलती जाती है ये शाम जैसे मक़ाबिर…

3 months ago