अली जव्वाद ‘ज़ैदी’

अली जव्वाद ‘ज़ैदी’ की रचनाएँ

आँख कुछ बे-सबब ही नम तो आँख कुछ बे-सबब ही नम तो नहीं ये कहीं आप का करम तो नहीं…

3 months ago