अशोक रावत

अशोक रावत की रचनाएँ

हाथ में ख़ंजर रहता है जब देखो तब हाथ में ख़ंजर रहता है, उसके मन में कोइ तो डर रहता…

3 months ago