इंशा अल्लाह खां

इंशा अल्लाह खां की रचनाएँ

कमर बांधे हुए चलने पे यां सब यार बैठे हैं कमर बांधे हुए चलने को याँ सब यार बैठे हैं…

2 months ago