इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन की रचनाएँ

मिस्र में हुस्न की वो गर्मी-ए-बाज़ार कहाँ  मिस्र में हुस्न की वो गर्मी-ए-बाज़ार कहाँ जिंस तो है पे ज़ुलेखा सा…

2 months ago