इब्ने इंशा

इब्ने इंशा की रचनाएँ

इंशाजी उठो अब कूच करो  इंशाजी उठो अब कूच करो इस शहर में दिल को लगाना क्या। वहशी को सुकूं…

2 months ago