इब्राहीम ‘अश्क़’

इब्राहीम ‘अश्क़’ की रचनाएँ

आशना मिलते नहीं अहल-ए-वफ़ा आशना मिलते नहीं अहल-ए-वफ़ा मिलते नहीं शहर है आबाद लेलिन दिल-रुबा मिलते नहीं किससे हम यारी…

2 months ago