उदयप्रताप सिंह

उदयप्रताप सिंह की रचनाएँ

फूल और कली  फूल से बोली कली क्यों व्यस्त मुरझाने में है फ़ायदा क्या गंध औ मकरंद बिखराने में है…

2 months ago