एजाज़ फारूक़ी

एजाज़ फारूक़ी की रचनाएँ

आहया असा-ए-मूसा अँधेरी रातों की एक तज्सीम मुंजमिद जिस में हाल इक नुक़्ता-ए-सुकूनी न कोई हरकत न कोई रफ़्तार जब…

2 months ago