एन. आर. सागर

एन. आर. सागर की रचनाएँ

तब तुम्हें कैसा लगेगा? यदि तुम्हें ज्ञान के आलोक से दूर अनपढ़-मूर्ख बनाकर रखा जाए, धन-सम्पति से कर दिया जाए-…

2 months ago