एहतराम इस्लाम

एहतराम इस्लाम की रचनाएँ

बहाना ढूंढ ही लेता है, खूँ बहाने का बहाना ढूंढ ही लेता है खूँ बहाने का, है शौक कितना उसे…

2 months ago