ओमप्रकाश कृत्यांश

ओमप्रकाश कृत्यांश की रचनाएँ

रघुपत बाबू को गालियों से गोदता है  गेहूँ का बोझ उठाये गनेसी ज़रा रूककर देखता है मेंड़ पर बैठे रघुपत…

2 months ago